You are here

सामुदायिक रेडियो से बदल रही है महिलाओं की जिंदगी

राजधानी दिल्ली और गुड़गांव की चकाचौंध से दूर दिल्ली से मात्र 70 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हरियाणा के नूंह जिले में महिलाओं की सोच और उनको आत्मनिर्भर बनाने में सूचना और नई-नई जानकारियों से लैस संचार का सबसे पुराना, सुलभ साधन सामुदायिक रेडियो अहम भूमिका निभा रहा है।

Community radio Alfaz-e-Mewat transforms attitudes पाठकों की तरफ से 

आधुनिक समाज  महिला अधिकारों को लेकर काफी जागरूक है. इसका बड़ा कारण स्वयं महिलाएं हैं  जो अपने अधिकारों को लेकर जागरूक हुई हैं  और उनकी जागरूकता को गति देने के लिए कई देशी-विदेशी गैर सरकारी तथा स्वयंसेवी संस्थान काम कर रहे हैं। लेकिन ग्रामीण स्तर पर इस बदलाव  का सबसे…

विस्तार से

पांडू पुत्र नकुल की कलयुग यात्रा

कलयुग में हर डाल पर 'दुर्योधन' बैठा है । जब एक दुर्योधन ने हमें द्वापर युग में नाक में दम कर दिया था तो समझो आज की हस्तिनापुर की हालत क्या होगी ?

Nakul's Journey to Hastinapur in Kalyug पाठकों की तरफ से 

हजारों वर्ष हो गए परन्तु हस्तिनापुर की यादें अभी भी हमारी जहन में है । दुर्योधन भैया आज भी द्रौपदी से आँखे नही मिला पाते हैं और शकुनी मामा तो हमारे साथ कोई भी खेल खेलने से कतराते है। भ्राता कर्ण आज भी अपने दिए हुए वचन पे कायम रहते…

विस्तार से

मेरी महेंद्र ‘बाहुबली’ धोनी से मुलाकात जब वह सिर्फ महेंद्र था ।

जो गली क्रिकेट नही खेल सकता वह क्या इंडिया के लिए खेलेगा !!धोनी दुनिया के लिए कैप्टेन कूल तो बाद में बना , मेरे लिए तो वह उसी दिन एक कूल इंसान बन गया था ।

My meeting with Captain Cool Dhoni पाठकों की तरफ से 

साल 2004 की बात है। बोर्ड के रिजल्ट्स आ चुके थे और ग्यारहवीं क्लास की किताबों ने मुझे इतना परेशान किया की पढाई करना और ना करना सब बराबर था । दिन रात TV देखने और क्रिकेट खेलने में बीत रहा था । सपना तो इंडियन क्रिकेट टीम के लिए खेलने…

विस्तार से