मोहनी की ज़िंदगी समाज की एक कड़वी सच्चाई पर प्रश्न खड़ा करती है

जहां तक मोहनी की बात है तो उसे गांववाले चंदु की पत्नी के नाम से जानते है । मोहनी को याद भी नहीं की उसे उसके नाम से अंतिम बार कब बुलाया गया था ।

आज की रिपोर्ट पाठकों की तरफ से 

यह कहानी है मोहनी और उसके पति चंदु की । मोहनी को याद भी नहीं की कब उसकी शादी चंदु से हुई लेकिन दोनों को एक साथ रहते हुए 45 साल गुजर गए । इन सालो में गांव में काफी तरक्की हो चुकी है । यहां अस्पताल ,स्कूल ,थाना ,तहसील…

विस्तार से