You are here

मायावती ने अखिलेश को गेस्ट हाउस कांड में दी क्लीन चिट कहा , एसपी-बीएसपी गठबंधन रहेगा बरकरार

राज्यसभा चुनाव में बसपा प्रत्याशी को मिली हार के बाद बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने आज भाजपा पर चुनाव में धनबल और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया।

Mayawati says SP-BSP ties wont'be affected by Rajya Sabha election defeat Breaking News आज की रिपोर्ट उत्तर प्रदेश की बड़ी ख़बरें देश बड़ी ख़बरें राजनीति समाचार 

उत्तर प्रदेश राज्यसभा चुनाव में सपा से गठबंधन के बावजूद मिली हार के बा बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती ने एसपी-बीएसपी के भविष्य के रिश्तों को लेकर चल रही अटकलों पर विराम लगा दिया है।  मायावती ने कहा कि फूलपुर-गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में  मिली करारी शिकस्त की वजह से बीजेपी बौखलाई हुई है। यही वजह थी की बीजेपी ने जीत के लिए जान लगा दी। ताकि बीएसपी और समाजवादी पार्टी की नजदीकी न बढ़े। बसपा सुप्रीमो ने अपने संबोधन में आगे कहा,,

”मैं बीजेपी एंड कंपनी को आगाह कर देना चाहती हूं कि एसपी-बीएसपी गठबंधन को तोड़ने की कोशिश में वह सफल नहीं होंगे। कल के परिणाम से एसपी-बीएसपी गठबंधन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा, एक इंच भी नहीं।”

 

आपको बता दें कि यूपी में शुक्रवार को राज्यसभा की 10 सीटों के लिए चुनाव हुआ था जिसमें से 9 सीटों पर बीजेपी प्रत्याशियों की जीत हुई और एक सीट समाजवादी पार्टी के खाते में गई। बीएसपी-सपा और कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी दूसरी वरीयता की वोटिंग में बीजेपी प्रत्याशी अनिल अग्रवाल ने बीएसपी के भीमराव अंबेडकर को हरा दिया।

मायावती ने सपा प्रमुख अखिलेश यादव को राजनीति में थोडा कम तजुर्बेकार बताते हुआ कहा कि ,“समाजवादी पार्टी ने थोड़ी चूक कर दी, उन्हें थोड़ी कुर्बानी देकर बीएसपी उम्मीदवार को जिताने में जोर लगा देना चाहिए था। मैं होती तो मैं एसपी के उम्मीदवार को जिताती।अगर एसपी मुखिया कुंडा के राजा भैया को मजबूर कर देते, उसके झूठे और फरेब वाले मकड़जाल में नहीं फंसते तो बेहतर होता।मुझे मालूम है अखिलेश राजनीति में ज्यादा तजुर्बेकार नहीं हैं लेकिन धीरे-धीरे सीख जाएंगे।”

1995 में हुए गेस्ट हाउस कांड में सपा प्रमुख अखिलेश यादव को क्लीन चिट देते हुये मायावती ने कहा कि अखिलेश उस समय राजनीति में नही थे। भाजपा गेस्ट हाउस कांड के बहाने हमारे और अखिलेश के बीच दरार पैदा करना चाहती है लेकिन ऐसा नहीं होगा। उन्होंने कहा, बीजेपी हमें 2 जून 1995 की गेस्ट हाउस घटना की याद दिला रही है लेकिन गेस्ट हाउस कांड के समय जो पुलिस अधिकारी राजधानी में तैनात था उसे भारतीय जनता पार्टी ने वर्तमान में प्रदेश पुलिस का मुखिया डीजीपी बना दिया है।

 

 

Tagged :

Related posts