You are here

चारा घोटाला:लालू को अबतक की सबसे बड़ी सजा पर बोले तेजस्वी, मेरे पिता को जान का खतरा

लालू यादव को चारा घोटाले में सुनाई गई अब तक की यह सबसे बड़ी सजा है।

चारा घोटाला: दुमका केस में लालू को 14 साल की सजा Breaking News आज की रिपोर्ट बड़ी ख़बरें बिहार की बड़ी ख़बरें राजनीति समाचार 

चारा घोटाला के चौथे मामले दुमका कोषागार केस में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद को 14 साल की सजा सुनाई गई है। इसके साथ ही उन्हें 60 लाख का जुर्माना भी देना होगा।कोर्ट ने आईपीसी और पीसी एक्ट की 2 अलग-अलग धाराओं में लालू यादव को 7-7 साल की सजा और 30-30 लाख जुर्माना लगाया है।जुर्माना नहीं देने की सूरत में उनकी सजा 1-1 साल और बढ़ जाएगी। लालू यादव को चारा घोटाले में सुनाई गई अब तक की यह सबसे बड़ी सजा है।

लालू यादव की सजा का एलान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुआ, वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में लालू यादव मौजूद नहीं थे। वे इस वक्त रांची के रिम्स अस्पताल में इलाज करवा रहे हैं।

 

गौरतलब है कि लालू समेत 19 लोगों को बीते सोमवार को दुमका कोषागार से साढ़े तीन करोड़ से अधिक की सरकारी राशि के अवैध निकासी मामले में दोषी ठहराया गया था। कोर्ट ने इस मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा, पूर्व सांसद जगदीश शर्मा और 10 अन्य को बरी कर दिया था।

आरजेडी सुप्रीमो को सजा सुनाए जाने के बाद उनके पुत्र और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि इस फैसले के खिलाफ उच्च न्यायालय में अपील करेंगे। इस दौरान उन्होंने लालू प्रसाद की जान को खतरा भी बताया। तेजस्वी यादव ने कहा, ‘’लालू यादव जी की जान को खतरा है। हम सब लोग भयभीत हैं। उनके खिलाफ षडयंत्र किया जा रहा है।’’

 

क्या है दुमका कोषागार केस मामला ?
यह मामला दिसंबर 1995 से जनवरी 1996 के बीच दुमका कोषागार से 3।13 करोड़ रुपये फर्जी तरीके से निकालने का है। इस मामले में सीबीआई ने 48 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दायर किया था। जिनमें से बाद में 14 आरोपियों की मौत हो गई। एक ने अपराध स्वीकार कर लिया और दो सरकारी गवाह बन गए।

लालू के खिलाफ इन मामलों में हो चुका है सजा का ऐलान…

  1. चाईबासा कोषागार मामला:24 जनवरी 2018 को लालू प्रसाद यादव और जगन्नाथ मिश्र सहित 50 आरोपियों को सीबीआई की विशेष अदालत ने चारा घोटाले के चाईबासा कोषागार से 35 करोड़, 62 लाख रुपये का गबन करने के मामले में पांच साल की सजा और 10 लाख रुपये का जुर्माना लगाया था।
  2. देवघर कोषागार मामला:6 जनवरी 2018 को रांची की विशेष सीबीआई अदालत ने देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये की अवैध निकासी के मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री एवं राजद प्रमुख लालू प्रसाद को साढ़े तीन साल की सजा और दस लाख का जुर्माना भी लगाया था।
  3. दुमका कोषागार मामला:चारा घोटाला के दुमका कोषागार से 3.13 करोड़ रुपये की अवैध निकासी के मामले में लालू यादव को 14 साल की सजा और 60 लाख का जुर्माना भी लगाया गया।

Tagged :

Related posts